मेरी पियारी बहन

में नमन भटनागर , जयपुर नगर में वास करता हूं , मेरी कोई सगी बहन नहीं ।
श्राद्ध का महीना चालू हो चुका है , और इन श्राद्ध के समय हमारे घर की परम्परा ह की हम जरूरत के अनुसार दान करते हैं।
और इस वजह से हम दान करने अनाथालय गए ।
वाह मुझे एक छोटी बच्ची ने देखा और मुस्कुराने लगी , वह ३ माह की लग रही थी , जब मैने उसके सिर पर हाथ रखा तब वह ओर मुस्कुराने लगी , और मेरी ओर अपना हाथ आगे किया , जब मैने अपना हाथ उसके हाथ पर रखा तब उसने मेरा हाथ पकड़ लिया, ओर मेरी आंखो को देखने लगी , नाजाने उसकी आंखो ने मेरे पर क्या जादू किया है , मुझे एक पल के लिए उसने बड़े भाई होने का अहसास कराया ।
अब मैने ये सोचा कि में उससे मिलने हर रविवार जाऊगा , मेरी छोटी बहन 😊😚।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s